home page

Chanakya Niti: इन 6 विषयों पर हमेशा करते रहें सोच-विचार, तभी मिलेगी जीवन में सफलता

Chanakya Niti: जीवन में विद्या को बहुत ही महत्वपूर्ण माना जाता है। जिस व्यक्ति के पास विद्या रूपी धन होता है। वो हमेशा अपने कर्मों से धन एवं ऐश्वर्य की प्राप्ति करता है और अपनेपरिवार का नाम ऊंचा करता है। 
 | 
thinking man

Chanakya Niti: आचार्य चाणक्य की इस शिक्षा नीति को अपनाकर कई भटके हुए युवाओं ने सही रास्ता अपनाया है। लोग जो आचार्य चाणक्य द्वारा दी गई शिक्षा का पालन करके अपना जीवन व्यतीत करते है। वे हमेशा सफल होते है। 

वर्तमान समय में चाणक्य नीति के द्वारा  ऐसा ही किया जा रहा है। कई बड़े संस्थानों में चाणक्य नीति को महत्वपूर्ण शिक्षा के रूप में पढ़ाया और सुनाया जाता है।

चाणक्य नीति में कुछ ऐसी बातें बताई गई है, जिनका ध्यान रखकर व्यक्ति सफलता की ओर बिना रुके आगे बढ़ सकता है।  एक शिक्षा आचार्य चाणक्य ने यह भी दी है कि व्यक्ति को सफलता के लिए बार-बार किस विषय में सोचना चाहिए। आइए जानते हैं-

इन छह विषयों पर हमेशा करें विचार 

कः कालः कानि मित्राणि को देशः को व्ययागमोः ।
कस्याहं का च मे शक्तिरिति चिन्त्यं मुहुर्मुहुः ।।

अर्थात-
 कैसा समय है? मेरा मित्र कौन है? स्थान कैसा है? आय-व्यय के क्या साधन हैं? मैं कौन हूं और मेरी क्या शक्ति है? इन सभी विषयों के बारे में बार बार सोचना चाहिए।

व्याख्या-

- चाणक्य नीति के इस श्लोक में आचार्य ने ये बताया है कि व्यक्ति को 6 विषयों पर हमेशा विचार करते रहना चाहिए और उसी मार्ग पर चलते हुए कार्य करना चाहिए।

- पहले समय को चाणक्य ने बहुत मूल्यवान बताया है। जो व्यक्ति समय का पालन सही ढ़ग से करता है, वो कभी भी सफल बन सकता है।

 -दूसरा विषय मित्र है। जो व्यक्ति अच्छे मित्रों की संगत में रहता है, उसे कोई भी बुरी शक्ति उसका कुछ बिगाड़ नहीं कर सकती। 

- चाणक्य ने तीसरा विषय स्थान को बताया है। जो व्यक्ति जिस स्थान पर रहता है, उसकी उन्नति के लिए हमेशा सोचता है वो ही श्रेष्ठ कहलाता है।

 -साथ ही सद्मार्ग पर चलते किस आय अर्जित करे, इसके विषय में भी व्यक्ति को हमेशा सोचना चाहिए। 

-अंत में उन्होंने स्वयं के विषय में और स्वयं की शक्ति के विषय में बताया है। जो व्यक्ति आत्मचिंतन कर स्वयं को पहचानता लेता है, वो ही अपनी शक्तियों का सही इस्तेमाल करता है।