home page

ChatGPT का बढ़ता क्रेज, निपटने के लिए कंपटीटर्स ने बनाई चौंकाने वाली रणनीति

पिछले साल नवंबर में ChatGPT ने बेजोड़ परफार्मेंस दिखाकर पूरी दुनिया को हैरान कर दिया. Microsoft की सपोर्ट वाली इस टेक्नोलॉजी से निपटने के लिए Google और Baidu जैसी टेक कंपनियां तगड़ी प्लानिंग कर रही हैं.
 | 
AI

Newz Fast, New Delhi   टेक कंपनी OpenAI ने पिछले साल ही ChatGPT को लॉन्च किया है. लेकिन चैटजीपीटी ने आते ही अपनी काबिलियत दम पर Google जैसी दिग्गज टेक कंपनियों की नींद उड़ा दी है. चैटजीपीटी एक लैंग्वेज मॉडल है, जो बिल्कुल इंसानों की तरह सवालों के जवाब देता है.

इसकी खूबियों की वजह से कुछ एक्सपर्ट्स इसे इंसानों की नौकरियों के लिए खतरा बता चुके हैं. वहीं, ये मॉडल अमेरिका में MBA, कानून और मेडिकल जैसे एग्जाम भी पास कर चुका है. अब दुनिया भर की टेक कंपनियां चैटजीपीटी की चुनौती से निपटने के लिए नई स्ट्रेटेजी बना रही हैं.

2015 में कुछ एंटरप्रेन्योर और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) रिसर्चर्स ने OpenAI की शुरुआत की थी. इनमें Y कॉम्बिनेटर के पूर्व प्रेसिडेंट सैम ऑल्टमैन, इलेक्ट्रिक कार निर्माता कंपनी टेस्ला के अरबपति CEO एलन मस्क और मशीन लर्निंग पर गूगल के पूर्व एक्सपर्ट इल्या सुतस्केवर शामिल थे.

मस्क 2018 तक OpenAI के बोर्ड में शामिल रहे, लेकिन उसके बाद टेस्ला पर फोकस करने के लिए इसे छोड़ दिया.

टॉप टेक कंपनियों की रणनीति
Google: गूगल के टॉप अधिकारियों को चिंता है कि चैटजीपीटी कंपनी के 20 साल से भी ज्यादा पुराने ‘सर्च इंजन’ बिजनेस को नुकसान पहुंचा सकता है. दिग्गज टेक कंपनी ने चैटजीपीटी चैटबॉट से निपटने के लिए पहले ही एक चैटबॉट तैयार कर लिया है.

इसे इसी साल लॉन्च किए जाने की संभावना है. गूगल सीईओ सुंदर पिचाई कंपनी की AI स्ट्रेटेजी को लेकर कई मीटिंग कर चुके हैं. वहीं, सर्च इंजन के फाउंडर्स लैरी पेज और सर्गी ब्रिन भी इस मामले में गूगल अधिकारियों के साथ मीटिंग कर चुके हैं.

Baidu: चाइनीज इंटरनेट सर्च इंजन कंपनी Baidu भी चैटजीपीटी चैटबॉट से डरी हुई है. माइक्रोसॉफ्ट की सपोर्ट वाले चैटजीपीटी से भिड़ने के लिए चाइनीज कंपनी एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) चैटबॉट सर्विस लॉन्च करने का प्लान कर रही है.

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक इसे मार्च में पेश किया जा सकता है. शुरुआत में कंपनी इसे एक स्टैंड अलोन एप्लिकेशन के तौर पर पेश करेगी, और फिर बाद में इसे सर्च इंजन से साथ जोड़ दिया जाएगा.

Anthropic: सैनफ्रांसिस्को बेस्ड AI स्टार्टअप कंपनी 300 मिलियन डॉलर (लगभग 2,451 करोड़ रुपए) की फंडिंग प्राप्त करने के लिए बातचीत कर रही है. खास बात ये है कि इस कंपनी में कई लोग ऐसे हैं जो OpenAI को छोड़कर आए हैं. ये कंपनी भी चैटजीपीटी को चुनौती देने के लिए काम कर रही है.

Character.AI: आर्टफिशियल इंटेलिजेंस पर बेस्ड यह कंपनी भी फंडिंग के लिए जोर आजमा रही है. दिलचस्प बात ये है कि इसका चैटबॉट सेलिब्रिटीज की तरह बात करने की सुविधा देगा.

Replika और You.com: दोनों चैटबॉट कंपनियां भी यूजर्स के लिए चैटजीपीटी जैसी टेक्नोलॉजी लाने पर काम कर रही हैं. यह एक नए तरीके का सर्च इंजन होगा.